Google+ Followers

Sunday, July 16, 2017

दावतों की बहार है

हैं पलेटें हाथ में , दोस्तों के साथ में,
                 लग रहीं कतार है , दावतों की बहार है| 

भुख्खरों की भीड़ है , पा ले  जो वो वीर  है ,
                  पाने की तकरार है, दावतों की बहार है| 

सामने पकवान है , होठों पे मुस्कान है ,
                    पेट की पुकार है , दावतों की बहार है | 

खाना है या खेल है , लोग ठेलमठेल है ,
                    चम्मचों पे भी मार है , दावतों की बहार है | 

दोस्त दुश्मन लग राहे , शैतान मन के जग रहें ,
                     सब बने खूंखार है, दावतों की बहार है | 

सूट - टाई -बूट में , सब लगे हैं लूट में , 
                     ये अजब व्यवहार है, दावतों की बहार है | 

मिठाइयाँ है रस भरी पनीर प्लेटों में पड़ीं ,
                    टपक रहीं ये लार है, दावतों की बहार है | 

फास्ट फ़ूड की ठाठ है , गोल - गप्पे चाट है ,
                    बनी सलाद श्रृंगार  हैं  , दावतों की बहार है | 

तरह- तरह की डिस सजी , चिक्केन - मटन , फिश सजी
                  हॉट सूप भी तैयार है , दावतों की बहार है | 

चाय - कॉफ़ी, कोल्ड ड्रिंक्स , प्यास बढाती आईस - क्रीम्स
                   खट्टी-खट्टी डकार है, दावतों की बहार है  || 

No comments:

Post a Comment