Google+ Followers

Sunday, July 16, 2017

मिले दिल से

बादल ग़मों के न मंडराने पाए ,
                                      हर रोज खुशियों की बरसात हो |
ख्वाहिश रही जो अधूरी हो पूरी, 
                                      आनेवाला पल एक सौगात हो |
न जंग न बैर न हो दुश्मनी  , 
                                     बस दोस्त की दोस्ती साथ हो |
अरमां सजे सारे गुलशन के जैसे,
                                     मीठे से हर एक जज्बात हो |
मिलते रहे हाथ से हाथ अब तक,
                                      मिले दिल से दिल वो मुलाकात हो ||

No comments:

Post a Comment