Google+ Followers

Sunday, July 16, 2017

युग मांगता है

सुभाष गाँधी नेहरू सा , महान चाहिए  ,        
युग मांगता है युग को , नौजवान चाहिए| 

जो प्रेम सत्य शांति की , राह को चुने ,
हर एक दिन दुर्बल  , की आह को सुने ,   
कर के दिखाए पूरा , जिस स्वप्न को बुने , 
           
आँखों को अपने स्वप्न का सम्मान चाहिए ,
युग मांगता है युग को , नौजवान चाहिए | 

 जो आया हो माता का , कर्ज चुकाने ,
 जो आया हो बेटा का , फर्ज निभाने ,
 जो भटके को आया , सही दिशा दिखाने,

 थक चुकी दिशाएं  , अवशान चाहिए ,
 युग मांगता है युग को , नौजवान चाहिए | 

 कलानिधि हैं कितने पर , चमक की है कमी,
 सुमन तो है चमन में पर , गमक की है कमी ,
 सूर्य है लाखों मगर , दहक की है कमी ,
 
करदे जो प्रज्वलित ह्रदय , वो सूर्यभान चाहिए ,
युग मांगता है युग को , नौजवान चाहिए | 

तोड़ दे पुरानी जो , घिसी पिटी प्रथा  ,
 जो मिटा दे देश से , कलेश की कथा ,
 जो सुने ह्रदय से , मातृभूमि की विथा ,

 राष्ट जिसपे कर सके , अभिमान चाहिए , 
 युग मांगता है युग को , नौजवान चाहिए | |  


No comments:

Post a Comment