Google+ Followers

Thursday, June 28, 2012

शायरी

प्यार  के  बदले  तू  बेवफाई  न  देके जा ,
                          दिल के बदले दिल को  जुदाई  न देके जा |

रहने दे मुझको अपनी जुल्फों की कैद  में ,
                           मुजरिम को अपने ऐसे रिहाई न देके जा | 

शायरी

जो बात है दिल में तुम्हे बतला नही सकते ,
                             जो दर्द दबा है तुम्हे दिखला नही सकते |

तुम चाहे सनम तोहमत कोई भी लगालो ,
                           हम बेवफा कहके तुम्हे बुला नही सकते |

Wednesday, June 27, 2012

शायरी

सिलसिला  उल्फत का चलता ही रह गया ,
                             दिल चाह में दिलबर के मचलता ही रह गया |

कुछ  देर  को  जल  के  शमां खामोश हो गई  ,
                          परवाना मगर सदियों तक जलता ही रह गया |

शायरी

  तडपते  हुए दिल से इक आह निकलके ,
                          रोने  लगी  उनके  बाँहों  से  लिपट   के |

ताज्जुब  है  वो  बेरहम  इतने  तो  नही थे ,
                       ठोकर लगा के चल दिए देखा न पलट के |

शायरी

परवाने ने इक दिन पूछा शमां से यूँ ,
                     अपने ही दीवाने को जलती है भला क्यूँ |

बोली शमां परवाने से तोहमत न लगा तू ,
                    साथ  में  तेरे  तो  मैं  भी जलती  रही  हूँ |         

शायरी

कई मोड़ पर थी इश्क ने आवाज दी मगर ,
                         आई नही करनी उसे  प्यार की कदर |

वो इम्तहान इश्क का लेते ही रह गये ,
                     और इश्क का मौसम आके गया गुजर |

Tuesday, June 26, 2012

शायरी

हर शख्स इस जहाँ में परेशान सा लगा  ,
                         सीने में जलन दिल में तूफान सा लगा  |

नफरत की आग में कभी हैवान बन गया ,
                      और प्यार में कभी वही भगवान सा लगा | 

प्यार बहुत ही कम लगता है |

पास में जब तक रहते हो तुम ,
                                प्यार भरा मौसम लगता है |
तेरी बातों में खो कर के ,
                               झूठा सारा गम लगता है |
चलने दो ये प्यार की बातें ,
                              जब तक ये सांसें चलती है |
क्यूँ की जितना भी मिलता है ,
                            प्यार बहुत ही कम लगता है |

Sunday, June 24, 2012

शायरी

मौसम जरा बदला हवाएं तल्ख़ हो गईं ,
                                      चल यहाँ से दिल , तेरी जरूरत नही रही  ।

इस रुत बदलने के इंतजार से अच्छा ,
                                     कहीं  ढूंढते है हम ,आशियाँ कोई  नई  ।

Saturday, June 23, 2012

मेरे प्यार का इतना सनम अंजाम रहने दे

मेरे  प्यार का इतना सनम ,  अंजाम रहने दे ,
अपने दिल के कोने में मेरा  ,  मुकाम रहने दे |


दुनिया बड़ी जालिम और नाजुक बड़ा ये दिल ,
ले  पनाह  में
  दिल को मेरे  ,  आराम रहने दे |

माना दुनिया को दीवानगी अच्छी नही लगती ,
मगर  मेरी  वफाओं को तू  ,  सरेआम रहने दे |


जमाने की नजर में है  , खता जो प्यार ऐ यारा ,
तो इस के नाम पे मुझको तू  , बदनाम रहने दे |

मत सोंच तू ,  दुनिया भला क्या सोंचती होगी ,
मेरे सर मुहब्बत का सनम  ,  इल्जाम रहने दे |


चाहे छीन ले दुनिया  ,  मेरे होने  का हक मुझसे ,
मगर तेरे नाम से
जुड़ा तू  ,  मेरा नाम रहने दे |

शायरी

दिल ये नही कहता की दीवानों की तरह मिल  ,
                           पर ऐसा नही की चुभते हुए तानों की तरह मिल ।

लग  नही  सकते  गले   यारों   की  तरह  जो ,
                            इतना तो कर हमसे न , बेगानों  
की तरह मिल ।

शायरी

नाराज है हमसे वो , क्यूँ सच बोल बैठे हम ,
                       जो  राज दबी  थी , उसे क्यूँ खोल बैठे हम |

वो शख्सियत अपनी खरा सोना समझते थे  ,
                     निकला मगर खोटा जो उन्हें तोल 
बैठे हम |

Friday, June 22, 2012

शायरी

लौटा बरस के सावन मगर , रह गई नमी ,
                          जैसे मौसम को हो  किसी बात की कमी |

बूंदों  ने  कभी  मुरके  देखा  नही  इकबार ,
                        और अधूरी चाहत में प्यासी रह गई जमीं| 

शायरी

काँटों से काँटों को , चुभाया नही जाता ,
                  पानी पे लिखे को , मिटाया नही जाता |

दिल ने कहा शोलों से ,ले जला दे हसरतें ,
                 उसने कहा 'जले को जलाया नही जाता |

शायरी

इतनी कोशिशें पर कोई न आया काम  क्यूँ , 
                                     दिल में इतना प्यार फिर भी रहे नाकाम क्यूँ ।

 खुशियों का वादा सदा करते रहे हमसे सनम ,
                                     बेवफाई  का  मगर  सर दे गये  इल्जाम  क्यूँ |    

Thursday, June 21, 2012

शायरी

मुफलिसी ने फकीरी से लड़ना सिखा दिया ,
                             जिन्दगी ने गम में संवरना सिखा दिया |

अभी आया भी न था जीने का सउर दोस्तों ,
                         की इस इश्क ने हमको मरना सिखा दिया |

शायरी

सपने को समझ बैठे हम तकदीर हमारी ,
                                  पर कम न आई कोई तदबीर हमारी |

जिस दिल के टुकड़े तुम कर गये सनम ,
                          उन्ही टुकडो में दिखी मुझे तस्वीर तुम्हारी | 

शायरी

मत पूछो  इस इश्क  ने दिन कैसे दिखाए ,
                                  माँगा नही उसने हम फिर भी जान दे आये ।

इतने पे भी  सनम को ऐतवार न आया ,
                               दीदार को  भी  जालिम  जनाजे  में  न  आये ।

शायरी

कुछ खता तुमने की , कुछ खता हमने की ,
                             बाकि कसर पूरी करने को ये जमाना काफी था ।

पास आने के लिए हजारों फसाने कम पड़े पर ,
                           दूर जाने  को  तो  बस  एक  बहाना  काफी  था ।

Tuesday, June 19, 2012

गुनहगार

खाई है जब कसम तुने जो निबाह करके जा ,
गैरों  की  तरह  मुझसे  न  निगाह करके जा ।

छोडके   न    जा   सनम   अधूरी   ख्वाहिशें ,
तुझको कसम है पूरी अपनी चाह करके जा ।

पूछेगा  खुदा  तुझसे  और  मांगेगा  गवाही ,
नाजुक  से  दिल पे ऐसे न गुनाह करके जा ।

माफ  कर  न  पायेगा  ता  उम्र  दिल  तुझे ,
मेरी  दिल का जहाँ ऐसे न तबाह करके जा ।

शायरी


 कई  सदी  से तेरी आस  में , मचलते  रहे  हम ,
                     तू  साथ  न  चला ,  फिर  भी  चलते  रहे हम |

लगाई  आग तुने  ऐसी  दिल   में मेरे   जालिम  ,
                    की  जमाने बाद भी उस आग में जलते रहे हम |

Monday, June 18, 2012

शायरी


आओ या ना आओ लेकिन , आने  की इक आश तो दो  ,
                                   क्यूँ ना आओगे मिलने को , वजह मुझे कोई खास तो दो |

कह  तो  दिया  तुमने मुझसे की इंतजार  करना यारा  ,
                                     सनम  तेरे  आने  से  पहले  ,  टूटे  न  वो  साँस   तो  दो|

इल्जाम

दुनिया के आगे   मैंने,  तेरा नाम न लिया ,
                      दिल ने मेरे बेसब्री से कभी काम न लिया |

तू कर गया हंसके बेवफाई सनम मगर ,
                     मैंने बेवफा कहके तुझे ,बदनाम न किया  |

तुने  मुझे किसी काम के लायक नही छोड़ा,
                    बेचैनियों ने दिल को कभी आराम न दिया |

मुझको भले ही तुझसे सनम रुसवाईयाँ मिली ,
                          मैंने तेरे सर  पे  कोई  इल्जाम न दिया |

Saturday, June 16, 2012

शायरी

राह  तुम्हारी  देख - देख के  , आँखे  नम करते - करते ,
                                 सबर नही अब होता दिल को , झूठा दम भरते - भरते |

लगता  है  तुम  न  आओगे , यार  मेरे  मुझसे  मिलने ,
                                  और  ये  मेरी  जां  जाएगी ,  तेरा  गम  करते - करते |

तेरा गम या मेरा गम

आओ देखे आज मिलाकर ,कौन हैं ज्यादा कौन है कम |

किसमे ज्यादा दर्द भरा है  ,  तेरा  गम  या  मेरा  गम |

कौन  सी आँखे ज्यादा रोई ,  कौन  हुई  है ज्यादा नम |

किसने ज्यादा तूफान झेले , किसके हिस्से में मातम |

छोडो  इससे  अब क्या होगा  ,  कुछ भी न पाएंगे हम |

जैसा  है  वैसा  ही  रहेगा  ,  तेरा  गम  या  मेरा  गम |

शायरी

कहा  मालूम  था  वक्त  ऐसे , तरपयेगा   हमे ,
                     कोई झोका तूफान का , दूर कर जायेगा हमे |

हम  यही सोच कर दिल को , समझा लेते है ,
                    की जिसने दूर किया है , वही मिलाएगा हमे |

Wednesday, June 13, 2012

शायरी

नाम  तेरा  लब  पे आया और ,  हुक  उठी इक सीने  में ,
                     गये  नही फिर  दर्द
ये दिल के इतने   साल महीने में |

जीते 
तो  पहले  भी थे पर ,  अब  हमको  मालूम   हुआ  ,
                    बिना प्यार के इस दुनियां में , मजा  नही कुछ जीने में |          

Tuesday, June 12, 2012

शायरी

कितने जन्म लिए , इस प्यार के लिए ,
                    हर जन्म हम प्यार में बदनाम हो गये  |

मुझको कभी राधा कभी सीता बना दिया ,
                   खुद वो कभी कृष्ण , कभी राम हो गये  |

अल्हड़पन

बात बनाने जाते हैं और  , ज्यादा बात  बिगड़ जाती है ,
उलझन जब सुलझाते है , गलतफहमियां बढ़ जाती है |

उनको यकीं दिलाने को जब , प्यार जताने जाते है तो  ,
देख के मेरा दीवानापन  ,  और  भी मुझसे डर जाती है |

गुम  रहती  है  न जाने क्यूँ  ,  नादानी  ,  अल्हड़पन में ,
भोलापन दिखला के मुझको , और दीवाना कर जाती है |

राहों में जाने अनजाने ,  मिल जाते  है  वो  जिस  दिन ,
कई दिनों तक अपनी  खुशबू ,  दिल में मेरे भर जाती है |

कोई  बात  नही  की  उसको  ,  प्यार  नही करना आता ,
इतना ही काफी है उसकी , नजर तो मुझपे पड जाती है |

कहती नही है कुछ भी लेकिन ,  मुझे यकीं  हो आया है ,
प्यार उधर भी है तब ही तो , नाम से मेरे संवर जाती है |

Sunday, June 10, 2012

शायरी

तेरे  प्यार ने हाल ये कैसा बना दिया ,
                    पत्थर सा दिल था सीसा बना दिया  |

हम सोचते थे तुमको अपना बनायेंगे ,
                   पर तूने मुझे अपने जैसा बना दिया |       

दोस्ती

  क्या राहत देंगे जलने वाले ,
                वक्त से  आगे निकलने वाले ।

 दोस्त ऐसे बनाये जाये  ,
                   हो साथ में सदा  चलने वाले ।

आँखों में बनके नूर बसे  ,
                  खाब सा दिल में पलने वाले ।

समझे दोस्ती ईमान धरम  ,
                 हो वफा के रंग में ढलने वाले ।



शायरी

एक  बार  फिर  से  मेरा  दिल  छला  गया ,
                             कमबख्त तोड़ कर वो मेरा दिल चला गया ।

पहले के जख्म  अबतलक सूखे भी नही थे ,
                             वो दिलजला फिर से आके  दिल जला गया ।

Saturday, June 9, 2012

शायरी

मेरा प्यार  तुझको  झमेला  न  होगा  ,
                        कसमों - वफाओं   का  मेला  न   होगा |


 ले जा दुआ मेरी ऐ जानेवाले ,
                         कभी तन्हाई  में तू अकेला  न  होगा । 

शायरी

किसी के दिल से दिल ने जोड़ा ऐसा सिलसिला ही क्यों ,
                               की उससे
बिछड़े तो दिल को हुआ इतना गिला ही क्यों  |

बस  किस्मत से इतनी  सी   शिकायत   रही  हमको   ,
                              की  हरबार  धोखा    वक्त    से   हमको  मिला  ही  क्यों  | 

शायरी

तेरे प्यार पे यकीन दुबारा न करेंगे ,
                  तेरे भरोसे जिन्दगी गुजारा न करेंगे ।


माना  की  इंतजार रहेगा मुझे तेरा  ,
               आवाज देके फिर भी पुकारा न करेंगे |

Friday, June 8, 2012

चालाकी

 जिस  दिल पे  बहुत नाज था हमको ऐ  दोस्तों ,
                  उस दिल ने किसी काम का , हमको नही छोड़ा ।

ता  उम्र  हम  जिस  राह  से  कतरा  के चले थे  ,
                 जालिम ने तो ले जाकर  , हमको  वहीं  छोड़ा ।

मगरूर  ने  इकबार  कुछ  , पूछा  नही  हमसे ,
               बस कह दिया छोड़ा जहाँ, बिलकुल सही छोड़ा।

चालाकियां किस्मत की  , जरा  देखिये हमसे  ,
              हमको कहीं  छोड़ा  और  दिल को कहीं छोड़ा ।

उनसे प्यार कर गये ।

मालूम था हमको की , सपने टूट जाते है  ,
जान के भी क्यूँ खता ,हम यार कर गये |

दिल की ही सुना किये , दुनिया की न सुनी ,
बेसबर  इस  दिल  पे  ,  ऐतवार  कर गये  |

जिन्दगी हर इक कदम , छलती रही हमे ,
और हम हंसके सितम , स्वीकार कर गये |

अब पता चला जब वो  ,  न लौट के आये ,
हम बेवफा सनम का , इंतजार कर गये |

जब तलक वो पास थे, हमको न थी खबर ,
किस कदर वो दिल को , बेकरार कर गये |               

जब तलक जज्बात वो , कहते रहे हमसे ,
हालात थे ऐसे की हम ,  इनकार कर गये |

इस  प्यार ने जो हाल ,  दिल का  मेरे किया ,
आखिर में हार के हम उनसे, प्यार कर गये ।


आभार

पांडित्य दिखने की खातिर , हमने न शब्द को क्लिष्ट किया ,
बस सीधा - सीधा प्यार लिखा , वो ना समझे तो क्या कीजे |

ना  दुनिया के उलझन लिखे  , न नफरत भरे  जलन लिखे ,
बस प्यार भरा तकरार लिखा ,  वो ना समझे तो क्या कीजे |

सपने लिखे ,मुस्कान लिखा , दिल का सब अरमान लिखा ,
चाहत  से  भरा  संसार लिखा , वो ना समझे तो क्या कीजे |

कभी  राधा का घुंघट लिखा , कान्हा लिखा पनघट लिखा ,
जीवन का सच्चा सार लिखा , वो ना समझे तो क्या कीजे |

कभी साजन कभी संदेश लिखा , गाँव लिखा परदेश लिखा ,
यौवन का साज सृंगार लिखा , वो ना समझे तो क्या कीजे |

अपनी  बातें  बतला कर के ,  हारे  उनको  समझा  कर  के  ,
फिर भी उनको आभार लिखा , वो ना समझे तो क्या कीजे |

Thursday, June 7, 2012

शिकवा

वो कहते हैं हमसे की अब , बहुत शिकायत हम करते है |
प्यार वफा सब भूल गये हैं , झूठ - मूठ का गम करते है |

उनको हम समझा ना पाते , शिकवा गिला बता ना पाते,
 और  वो  रुखी  बातें करके  ,  आँख  हमारी नम करते है |

वही  पुरानी  बीती  बाते  , याद  दिलाया  करते  है  बस ,
ना जाने किस प्यार का यारो , इतना ज्यादा दम भरते हैं |

समझा लेते है हम मनको , सोचते है फिर कह दे उनको ,
हमको लगता है वो हमसे , प्यार पहले से कम करते है |

शायरी

पूछे कोई पागल  दिल से , दीवानापन क्या होता है |
                              एक खुशी की चाह में क्यूँ ये ,लाखों खुशियाँ खो देता है |

खोया - खोया गुमसुम सा क्यूँ , बैठा रहता तन्हाई में ,
                              याद किसी को करके क्यूँ ये ,  हँसते- हँसते रो देता है |            

Monday, June 4, 2012

प्यार

उसने कहा मुझसे छोडो पुरानी बात ,

 ऐसा कहो जो कान ने सुना न हो कभी ,
वो  बात जो किसी ने कहा न हो कभी ,

मुस्कुरा के मैंने हामी भरी इक - बार ,
और पास उसके जाके हौले से कहा प्यार ,

वो बोला तुमने ये क्या कह  दिया ऐ यार ,
ये बात तो मै सुन चुका शायद हजारों बार ,

हंसके  कहा मैंने उसे , समझो न दिल्लगी ,
प्यार  से  बढके  तो ,  दुनिया  में कुछ नही ,

जिसने भी इसको जाना ,  जीना उसे आया ,
सदियों  पुराना  होकर  भी ,  प्यार  है  नया ,

वो  सुनके  सोचता  रहा  फिर  यूँ कहा दिलदार ,
'हाँ ' सुनके भी लगता है जैसे अनसुना हो प्यार |

मेरा नाम दिवाना लिख देना

चंद  लफ्जों  में  सही  पर  कोई फसाना लिख देना |
जब भी मेरी बातें लिखना नाम दिवाना लिख देना |

ना हो  कोई बात तुम्हारे पास जो मुझसे कहने को ,
खट्टी मीठी यादो वाला  , बीता जमाना लिख देना |

इक  दूजे  की  आँखों  में जब  पहरों  देखा  करते  थे ,
जो दिखता था तुमको यारा, वही तराना लिख देना  |


हाथ पकड़ के कसमे खाई साथ रहेंगे जनम - जनम,
कैसा लगता था वो जाना , कसमें खाना लिखा देना |


प्यार नही था वो गलती थी ऐसा कुछ भी ना लिखना ,
दिल न दुखाना चाहो गर तो,कोई बहाना लिख देना |

Saturday, June 2, 2012

गर्मी ,

पागल बना रही  है  ये उमस भड़ी गर्मी ,
नागिन का रूप लेके जैसे डस रही गर्मी | 

पंखे ,  ए सी , कूलर सब बेकार कर दिए,
लाचार करके सबको कैसे हंस रही गर्मी |

लगता है की अच्छे नही है  इसके इरादे ,
जैसे की जान  लेने  को  तरस रही गर्मी |

झुलसाये जा रही है ये हरियाली धरा की,
शोलों की तरह नभ से है बरस रही गर्मी |

ठंडी  हवा  के  झोंके  जैसे  खाब  बन गये ,
व्याकुल हुए दिन रात यूँ बेबस करे गर्मी |

जाने क्या इसको बैर है , हमसे निकालना ,
कोई इसे समझाओ की अब बस करे गर्मी |



दिल की बात

सोचते है की आज उनसे दिल की बात कहे ,
मगर डरते है हम , जाने क्या वो यार कहे |

ये भी मुमकिन है वो नाराज हमसे हो जाये ,
या फिर प्यार के बदले में हमसे प्यार कहे |

बड़ी उलझन में है दिल, कैसे हम कहे उनसे ,
उनकी  चाहत  में दिल कितना बेकरार रहे |

अभी  वो  जान  भी  पाए  कहां  हमे ज्यादा ,
फिर  भला  कैसे  उन्हें  हमपे  ऐतवार  रहे |

घड़ी  भर  के  लिए  भी  पास अगर बैठे  वो ,
तो सुन पाए की क्या धडकनों का तार कहे |

न  जाने  क्या  हो  उस  पल को हालत मेरी ,
जो  ये   दीवानगी  उनके  लिए  बेकार  रहे |

शायरी

उनके शहर में अपना भी आशियाँ होता ,
                           रोक लेते जो उसदिन वो हमे जाने से |
       
 उन्हें मालूम था रूठना हमारी आदत है ,
                          न जाने क्यूँ मुकर गये हमे मनाने से |               


Friday, June 1, 2012

दोस्ती

मेरे दोस्त का मुझसे ये लड़ना तो देखिये ,
गुस्से  में  भी  प्यार  ये  करना तो देखिये |

सच  बात  पे भी  दिल  में डरते रहे हम तो ,
और करके खता उनका मुकरना तो देखिये |

जाने को भी कहते हैं और जाने भी न देंगे ,
आँखों में गम जुदाई का भरना तो देखिये |

मालूम था  दो पल का गुस्सा था  ये उनका ,
अब दोस्ती की खातिर ये मरना  तो देखिये |                

शायरी

माना  की  नादान  तू  कहेगा  मुझे ,
                        अपनी नजरे -खास में न लेगा मुझे|
        
है यकीं थक जायेगा जब नफरतों से ,
                     मेरे हिस्से का प्यार भी तो देगा मुझे |